Free Reg. for Online Exams

ARTICLE DESCRIPTION

संपादकीय

नवीकरणीय क्षेत्र और नीतिगत समस्याएं

12.03.19 140 Source: The Hindu
नवीकरणीय क्षेत्र और नीतिगत समस्याएं

2016-17 में - जब पवन ऊर्जा कंपनियों ने अपनी परियोजनाओं को शुरू करने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाये, ताकि निश्चित प्रोत्साहन समाप्त होने से पहले अपना पैर जमा सकें, 5,500 मेगावाट के बाद से 2017-18 में क्षमता वृद्धि घटकर 1,762 मेगावाट और 2018-19 में अनुमानित 1,600 मेगावाट हो गई है।

विशेष रूप से, दोनों वर्षों की शुरुआत में, यह कयास लगाये जा रहे थे कि इस बार वृद्धि और अधिक होगी। इसके अलावा, 2016-17 के बाद, एक अति उत्साहित उद्योग ने 2017-18 के लिए 6,000 मेगावाट की भविष्यवाणी कर दी थी। हांलाकि, ऐसा कुछ हुआ नहीं, लेकिन इसके बावजूद, कईयों ने 2018-19 के लिए और अधिक वृद्धि होने की भविष्यवाणी की थी। अब, जब रिकॉर्ड फिर से निराशाजनक दिख रहा है, फिर भी कईयों ने (जैसे तुलसी तांती, सुजलॉन एनर्जी के सीएमडी) 2019-20 में रिकॉर्ड ......

Download pdf to Read More